Home Top Ad

आपसी रिश्तों को कैसे बनायें रखें - How To Maintain Relationship

Share:

Relationship Tips:

How To Maintain Relationship
Maintain Relationship


रिश्तों के डोर में तो कोई भी लिपट जाता है ,बात तो तब बनती है जब कोई उन रिश्तों की अहमियत को समझता है |
तो चलिए आज हम कुछ मुख्य बिन्दुओं पर प्रकाश डालेंगे :


आज का विषय है ,आपसी संबंध को कैसे बनाए रखें ?,एक दूसरे से किस तरह से व्यवहार रखें?, एक दूसरे से किस तरह से बात करें?, एक दूसरे से किस तरह मिलन करें?, जिससे हमारे आपसी रिश्ते बने रहे | 

                                            समस्या इस बात से है कि आज की वर्तमान पीढ़ी अपने रिश्तो की अहमियत को समझना भूल गयी है,हर इंसान एक - दूसरे से  कहीं न कहीं दूर होता जा रहा है, उसके पास अपने रिश्तों को  सम्भालने के लिए समय नहीं है, अपने दोस्त से दो पल बात करने के लिए समय नहीं है, अपने परिवार की समस्याओं को समझने के लिए उनके पास समय नहीं है और  अगर किसी एक के पास समय नहीं है दूसरा इस बात से रूठ जाता है कि सामने वाला तो उसे याद ही नहीं कर रहा है ,वह तो अपने धुन में जी रहा है ,अब तो उसके भाव ही नहीं मिल रहे हैं| ऐसी तमाम बातें दूसरे से कर देते हैं |


आइए देखते हैं :

                       सामने वाला आपसे बात नहीं कर पा रहा है तो हो सकता है ,कुछ समस्या हो, हो सकता है वो किसी कार्य में व्यस्त हो गया होगा, आपसे वार्तालाप नहीं कर पा रहा | खैर छोड़िए ,ऐसी बहुत सारी छोटी-छोटी चीजें हैं जो हमारे जीवन के अनमोल पलों को हमसे बड़ी बुरी तरह से गायब कर रही हैं |आपको एहसास नहीं हो रहा है ,जहां तक मेरा मानना है हमें अपने रिश्तो को सम्भालने के लिए कुछ मुख्य बिंदुओं पर ध्यान देना होगा ,जैसे :


  •  अच्छा मान लीजिए, आपसे आपका कोई दोस्त जो रूठ गया है,  आपका पहला रवैया होता है भाई अगर वह हमसे रूठ गया, वह हमसे बातें नहीं कर रहा है, वह हमसे नहीं मिल रहा है तो भला मैं क्यों मिलूं | यही सबसे बड़ी समस्या है, हम किसी और से नहीं मिल पा रहे हैं और इसके कारण हो सकता है, सामने वाला जो मेरा अच्छा खासा मित्र हुआ करता था ,मेरा सम्बन्धी हुआ करता था, इस बात से नहीं मुलाकात कर रहा है , इस बात से बात नहीं कर रहा है कि मैं उससे बात नहीं कर रहा हूँ , अगर आपका मित्र आपसे रूठ जाता है तो आपका कर्तव्य बनता है कि उसकी समस्या का समाधान हो , यह नहीं कि वह हमसे रूठ गया है तो भाई वो जो भी बातें करें, हमारा क्या जा रहा है? वगैरह-वगैरह |ऐसा कुछ न हो , इस बात पर ध्यान देना होगा |
  • जो दूसरे नंबर पर जो बात आती है वह यह है मान लीजिए किसी दूसरे दोस्त ने आपकी किसी दूसरे दोस्त की बुराई आपके सामने कर दी उसमें तुरन्त आपका रवैया इस तरह से हो जाता है, कि उसने ऐसा किया होगा या नहीं ,बिना एक पल सोचे आप अपना निर्णय ले लेते हैं ,हो सकता है आपका बहुत करीबी मित्र, उसने आपको बहुत ही करीब से , दिल से मानता है , तो किसी के कहने पर आप उससे रूठ क्यों जा रहे हैं?
  •  तो सबसे पहले समाधान क्या है ,अगर आपको किसी समस्या का पता चलता है, आप उसे जाकर मिलें , जिससे आपकी समस्या का समाधान हो सकें अर्थात जिससे समस्या हो उसी से अपनी दिल कि बात विनम्रता से कहें ,दूसरा बन्दा तो आप का मजाक उड़ा कर के निकल जाएगा ,उसी में मजा आएगा कि आप दोनों को एक साथ देख कर परेशान था तो अब उसे खुशी मिलेगी |

" वो कहते हैं ना कि कोई भी इंसान खुद के दुःख से उतना परेशान नहीं है ,जितना कि दूसरों के सुख से "

  • अच्छा ! एक बात और मान लीजिए ,अगर आपका कोई करीबी आप पर गुस्सा करता है, क्रोध करता है ,आपको डांटता है तो आप उस समय प्रतिक्रिया ना दें, आपकी गलती हो या ना हो ,उस समय आप उसे दिमाग से निकाल दें कि ऐसा हमें कुछ कहा गया है या नहीं ,क्योंकि सामने वाले का मस्तिष्क शान्त अवस्था में नहीं है, उसकी चेतना आपकी बातों को समझने के लिए काबिल नहीं है, उस समय भलाई इसी में है कि आप शांत हो जाएं ,सामने वाले का जब क्रोध शांत हो जाएगा ,तब आप उसे उसी विषय पर प्रेम से बात कर लीजिए तो समस्या का समाधान मिल जाएगा |
  • बात यह है कि एक दूसरे के बीच की जो बॉन्डिंग होती है.,एक-दूसरे के बीच जो बंधन होता है ,उसे बहुत मजबूत करना होगा ,ऐसा नहीं होना चाहिए कि थोड़ी सी हवा चली ,थोड़ी सी दो लोगों में अफवाहें फैली तो आपके रिश्ते की जो डोर है, वह दो टुकड़ों में बट जाएँ , ऐसा नहीं होना चाहिए, इसके लिए क्या करना होगा ? अगर कोई समस्या आती है तो उस पर विचार करके ,आपसी सलाह से समाधान को ढूंढना होगा |
  • एक बात यह भी है, मान लीजिए आपका दोस्त किसी गलत कार्य को बढ़ावा दे रहा है तो आप ऐसा ना करें कि वो मेरा  दोस्त है मैं उसका हां में हां मिला लूंगा, ना में  ना करूंगा | ऐसा नहीं है ,आप दोस्त हैं आप उसके मित्र हैं, तो आप का यह कर्तव्य बनता है ,उसे गलत पथ  पर जाने से रोके गलत चीजों से दूर रखें, जो जीवन को बर्बाद कर सकता है साथ ही साथ आपको भी डुबो  सकता है, इसके लिए आपको ध्यान देना होगा |

   सहृदय धन्यवाद !!!



No comments

Please do not enter any spam link in the comment box.