Home Top Ad

परिवर्तन अच्छा है। Parivartan Achha Hai। Change Is Good | Do It

Share:

परिवर्तन अच्छा है:

Change Is Good | Just Do It
Change Is Good
परिवर्तन संसार का नियम है। परिवर्तन ही है जो चैतन्य का प्रतीक है। जिंदगी हमेशा चलती रहती है और हम भी उसके साथ चलते रहते हैं लेकिन क्या हम अपने बदल रहे जीवन से खुश रह पाते हैं। हम "जो हुआ अच्छा ही हुआ" इस भाव के साथ जिएंगे तो जीवन में आनंद प्राप्त होगा। अगर आपको बदलाव से डर लगता है तो यह लेख आपको ज़रूर पढ़ना चाहिए। मैंने अपने पाठकों को संतुष्ट करने की पूरी कोशिश की है।

जिंदगी के हर एक पल में कुछ न कुछ नया होता है। आज जो आपके पास है, कल नहीं होगा और आज जो आपके पास नहीं है हो सकता है कि कल आपके पास हो। आज आप कहीं और हैं तो कल किसी नई जगह पर होंगे। आज जो लोग बेरोज़गार हैं, कल उन्हें नई जॉब (नौकरी) मिल सकती है। 

कार का सपना देखने वाले कल कार में घूमेंगे अकेलेपन से जूझ रहे लोगों की कल शादी और बच्चे होंगे, आर्थिक लाभ और हानि के उतार-चढ़ाव से गुजरना पड़ सकता है। हो सकता है कल आपके घर में एक नन्हे मेहमान की किलकारी गूंजी तो किसी अपने के चले जाने से घर में उदासी भर जाए। 

यह प्राकृतिक प्रक्रियाएं हैं जो हर किसी के जीवन में होती ही हैं। जो बदलाव हमें अच्छे लगते हैं उन्हें हम सकारात्मक बदलाव का नाम देते हैं, और जो बदलाव हमें अपने विरुद्ध लगते हैं उन्हें हम नकारात्मक बदलाव कहते हैं।



यह दुनिया और हमारी जिंदगी कभी एक जैसी नहीं रहेगी। निरंतर हो रहे इस बदलाव को आप जितना चाहे रोकने की कोशिश करें, यह होकर ही रहेगा। यदि बदलाव से आप को डर लगता है तो इस डर को दिल से निकालें और बदलाव को अपनाइए। परिवर्तन को सकारात्मक दृष्टि से देखने पर आपके जीवन में सुखद बदलाव आएगा।

बदलाव से डर का मुख्य कारण है होता है उसका सामना करते वक्त मिलने वाली नकारात्मक प्रतिक्रियाएं जैसे ईर्ष्या, दर्द, गुस्सा, अशांति और तनाव, चिंता आदि लेकिन इन सब से बचते हुए आपको अपना मन शांत रखना है और जीवन में हो रहे बदलावों को स्वीकार करना है, तभी आप आगे बढ़ पाएंगे। 

ज़रूरी नहीं कि हर बार बदलाव के बदले आपको हमेशा नकारात्मक प्रतिक्रियाएं ही सहनी पड़ें। 

आपको सकारात्मक प्रक्रियाएं भी प्राप्त हो सकती हैं, इसीलिए अपने व्यक्तित्व और एटीट्यूड को सकारात्मक बनाए रखें। सफलता प्राप्त करने के लिए आपको रिस्क लेने और बदलावों से नहीं डरना चाहिए। वर्तमान स्थिति अच्छी है तो आपकी लापरवाही से यह बिगड़ भी सकती है और अगर वर्तमान स्थिति बुरी है तो मेहनत करें तो यह समय भी जल्द ही गुजर जाएगा। 



हर परिस्थिति में एक सा स्वभाव रखना ही खुश रहने, सेहतमंद रहने और सफलता पाने का मंत्र है। वो कहते हैं न 'सुखी मन तो सुखी तन', तन और मन का आपस में सीधा संबंध होता है। तन पर हो रहे बदलाव आपके मन को प्रभावित करेंगे और मन में हो रहे बदलाव आपके तन को। इसीलिए हमें दोनों में नियंत्रण बनाना चाहिए और दोनों को ही प्रसन्न रखने का प्रयास करना चाहिए।

परिवर्तन को स्वीकार करने के लिए आपमें सच को और किसी भी परिस्थिति को स्वीकार करने की शक्ति होनी चाहिए। इस सामर्थ्य के कारण ही आप किसी भी लक्ष्य को सरलता से प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप सामने आने वाली चुनौतियों और बदलावों को खुशी खुशी स्वीकार कर पाते हैं तो तो इससे आपका विकास होता है। आपका मानसिक और शारीरिक जीवन उच्च स्तर पर पहुंचता है। 

जब भी किसी बदलाव को देखकर या उसके बारे में सोचकर पहले से ही घबराहट हो रही हो तो ऊपर वाले पर भरोसा रखें। ईश्वर हमारे लिए सब कुछ सोच कर रखते हैं, हमारी योजनाओं से बेहतर उनकी योजनाएं होती हैं। इसीलिए हमेशा ध्यान रखें जो बदल रहा है वो अच्छे के लिए बदल रहा है। 

इससे आपके व्यक्तित्व का सकारात्मक विकास होगा। जो चीज़ें प्राकृतिक रूप से हमारे जीवन में घटित हो रही हैं, हम उनको बदल नहीं सकते लेकिन उन चीजों को अपना ज़रूर सकते हैं। उनको अपनाने की, उनमें ढल जाने की हिम्मत हमारे अंदर होनी चाहिए।

💥परिवर्तन स्वीकार करने के तरीके: 



परिवर्तन स्वीकार करने अगर आप अब यह सोचकर परेशान हो रहे हैं कि हम परिवर्तन को स्वीकार तो करना चाहते हैं लेकिन समझ नहीं पाते कि यह कैसे करें तो इसके लिए आपको इस लेख में कुछ उपयोगी उपायों के बारे में भी पता चलेगा जो हम आगे बता रहे हैं। परिवर्तन को कैसे स्वीकार किया जा सकता है, इसके लिए महत्वपूर्ण तरीके हैं :

1. इच्छाशक्ति - इच्छाशक्ति यानि कि विल-पावर से आप किसी भी असंभव कार्य को संभव बना सकते हैं।

2. ध्यान - ध्यान और मैडिटेशन से भी आपको मन शांत रख सकते हैं जिससे किसी भी परिवर्तन को अपनाने में आसानी होगी।

3. प्राणायाम - साँस की उचित क्रियाओं से आपके मस्तिष्क को गति मिल जाती है जिससे आप जीवन में हो रहे बदलावों को स्वीकार कर पाते हैं।

4. कल्पना - अपनी कल्पनाशक्ति से आप किसी भी परिस्थिति को मन में ही सोच सकते हैं और इसीलिए परिवर्तन से होने वाले सभी परिणामों को पहले ही सोच सकते हैं।

हमेशा याद रखें कि "परिवर्तन अच्छा है।"

अपना बहुमूल्य समय देने के लिए आपका ,सहृदय धन्यवाद !!!

💬 सहयोग: अनविता कुमारी 

नोट:  प्रिय पाठकों, आपसे विनम्र निवेदन है यदि आपको इस लेख में कही भी , कोई भी त्रुटि नजर आती है या आप कुछ सुझाव देना चाहते है, तो कृपया नीचे दिए गए टिप्पणी स्थान ( Comment Box) में अपने विचार व्यक्त कर सकते है, हम अतिशीघ्र उस पर उचित कदम उठायेंगे |

No comments

Please do not enter any spam link in the comment box.